Search This Blog

Dec 16, 2015

कमल विहार के विकास कार्य की गति धीमी पर एलएंडटी को नोटिस

आरडीए अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने एलएंडटी को लगाई कड़ी फटकार
रायपुर, 16 दिसंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने कमल विहार योजना के विकास कार्य की धीमी गति पर निर्माण कंपनी लार्सन एंड टूब्रो (एलएंडटी)
को कड़ी फटकार लगाई है. उन्होंने आरडीए के अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे कंपनी को नोटिस दें और उस पर नियमानुसार कड़ी कार्रवाई करें. साथ ही शेष बचे कार्यों को शीघ्रता से करने के लिए टाईम प्लॉन बना कर प्रस्तुत करें. उन्होंने आज प्राधिकरण के अधिकारियों, प्रोजेक्ट मैंनेजमैंट कंसल्टेंट और लार्सन एंड टूब्रो के इंजीनियर के साथ कमल विहार का स्थल निरीक्षण किया.

अपने तीन घंटें के दौरे में आरडीए अध्यक्ष ने उच्चतम न्यायालय के निर्णय के अनुसार कमल विहार के अलग – अलग सेक्टरों में छोड़ी जाने वाली भूमि का अवलोकन किया. उन्होंने अधिकारियों को कहा कि वे शीघ्र ही इन भूमियों का तहसीलदार रायपुर के माध्यम से सीमांकन कर योजना के अभिन्यास में संशोधन करवाएं. श्री श्रीवास्तव ने कहा कि जिस क्षेत्र का सीमांकन हो चुका है उन पर विकास कार्य की गति बढ़ाई जाए.
कमल विहार में अधोसंरचना विकास का काम कर रही निर्माण कंपनी लार्सन एंड टब्रो के कार्यों का अवलोकन के दौरान उन्होंने पाया कि कंपनी को दिया गया समय से काफी पीछे चल रहा है, साथ ही उनके व्दारा काम की तुलना में काफी कम कर्मचारी लगाए गए हैं. इस कारण कार्य की
गति काफी धीमी है. सेक्टर एक में अधूरे पड़े स्पिलवे तथा सड़क के सामने बन रहे नाले का कार्य भी कई महीनों से बंद पड़ा है. कमल विहार में पानी की आपूर्ति के लिए बनाई जा रही 5 पानी की टंकियों (सम्पवेल) का काम भी काफी धीमा है. इस पर आरडीए अध्यक्ष ने काफी नाराजगी व्यक्त करते हुए आरडीए के अधिकारियों को एलएंडटी कंपनी व्दारा अब तक किए गए समस्त कार्यो की समीक्षा कर उसमें की गई देरी पर नियमानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए. उन्होंने अधिकारियों से कहा कि आज जब हम कई सेक्टरों में विकसित भूखंडों का कब्जा लोगों को दे रहे हैं तब उन्हें भवन एवं निर्माण के लिए पीने का पानी और बिजली की आपूर्ति भी जल्द से जल्द देनी होगी. बिजली के संबंध में उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी से फोन पर बातचीत कर उन्हें कहा कि विद्युत विस्तार के कार्य का प्राकंलन स्वीकृति की प्रक्रिया में है इसीलिए  कमल विहार में भूखंडधारियों को शीघ्र विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराया जाए. इसके बाद उन्होंने कमल विहार में विकसित किए जा रहे ऑक्सीजोन के कार्य अवलोकन कर वन विभाग के अधिकारियों को वहीं से फोन पर निर्देशित किया कि वे पौधों को ठीक से विकसित करने के लिए नियमित रुप से इसका निरीक्षण कर आवश्यक्तानुसार पानी-खाद इत्यादि नियमित रुप से देने की व्यवस्था करें. श्री श्रीवास्तव ने कमल विहार योजना में बड़े भूखंडों पर एम.आई.जी फ्लैट्स निर्माण के लिए बड़े भूखंडों की चिन्हित करने का निर्देश भी दिया.

स्थल निरीक्षण के दौरान ग्राम डूंडा के पार्षद प्रतिनिधि श्री कमल साहू ने गांव के तालाब में पानी भरने की व्यवस्था का अनुरोध किया. श्री श्रीवास्तव ने कहा कि इसके लिए जल संसाधन विभाग के माध्यम से अनुरोध करना होगा, इसके लिए वे भी संबंधित अधिकारियो से चर्चा करेंगे. श्री संजय श्रीवास्तव के साथ स्थल निरीक्षण के दौरान अतिरिक्त सीईओ श्री यू.एस. अग्रवाल. मुख्य अभियंता श्री जे. एस. भाटिया, अधीक्षण अभियंता श्री पी.आर. नारंग, पीएमसी के टीम लीटर श्री संजय वर्मा, एलएंडटी के इंजीनियर श्री रंजीत सहित प्राधिकरण के कई इंजीनियर एवं अधिकारी उपस्थित थे. 

Dec 12, 2015

डॉ. रमन सिंह के कुशल नेतृत्व के 12 वर्ष और आरडीए की उपलब्धियों के 12 साल के साथ संजय श्रीवास्तव ने दी बधाई

आवास एवं पर्यावरण मंत्री राजेश मूणत को भी टीम आरडीए ने दी बधाई
रायपुर12 दिसंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने आज
टीम आरडीए के साथ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को उनके 12 वर्षों के कुशल नेतृत्व पर बधाई और शुभकामनाएं दी. श्री श्रीवास्तव ने डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में रायपुर विकास प्राधिकरण व्दारा पिछले 12 वर्षो में किए कार्यों की जानकारी वाला एक स्मृति चिन्ह भी भेंट किया. इसके बाद टीम आरडीए ने आवास एवं पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत से भी मुलाकात कर उन्हें उनके 12 वर्षीय सफल कार्यकाल के लिए बधाई दी.


सन् 2004 में रायपुर विकास प्राधिकरण के पुनर्गठन के बाद से रायपुर विकास प्राधिकरण ने सन् 2015 तक रायपुर नगर के लिए विकास और निर्माण के लिए कई कार्य किए हैं. जिसमें मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और आवास एवं पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत के मार्गदर्शन में प्राधिकरण ने चार राष्ट्रीय स्तर के अवार्ड जिनमें कमल विहार के लिए नई दिल्ली में हडको डिजाईन अवार्ड और ऑर्डर ऑफ मेरिट अवार्ड, 24 घंटे छत्तीसगढ़ी धुन सुनाने वाली विश्व की सबसे अनूठी नगर घड़ी के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकार्डस तथा इंडिया बुक ऑफ रिकार्डस हासिल किए हैं.  
विकास और निर्माण योजनाओं में प्राधिकरण ने डॉ. खूबचंद बघेल ट्रांसपोर्टनगर एवं बस टर्मिनल रावांभाठा, छत्तीसगढ़ सिटी सेंटर - देवेन्द्रनगर डॉ. श्‍यामाप्रसाद मुखर्जी आवास योजना - हीरापुरसरोनारायपुराबोरियाखुर्द, कटोरातालाब योजना में गोविंद सारंग व्‍यावसायिक परिसरकुशाभाऊ ठाकरे आवास योजना, भक्त माताकर्मा व्‍यावसायिक परिसर, सिटी बस सर्विस, इन्‍द्रप्रस्‍थ रायपुरा योजना के अंतर्गत वंडरलैंड रिक्रिएशन पार्कइन्द्रप्रस्थ डुप्लेक्सइन्द्रप्रस्थ अपार्टमेंट सहित विश्वस्तर की नगर विकास योजनाएं कमल विहार और इन्द्रप्रस्थ रायपुरा का क्रियान्वयन कर नगर वासियों को कई सौगातें दी हैं. मुख्यमंत्री और आवास एवं पर्यावरण मंत्री को बधाई देने वाली टीम आरडीए में अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव के साथ मुख्य अभियंता श्री जे. एस. भाटिया, कार्यपालन अभियंता श्री श्रीचंद झा व श्री प्रमोद भास्कर, सहायक अभियंता श्री के.पी. देवांगन, श्री सुरेश कुंजाम, एम.एस. पांडे, एच.पी.पंडरिया और सुशील शर्मा शामिल थे.

Dec 7, 2015

बोरियाखुर्द के 1800 फ्लैट्स के संधारण व रखरखाव के लिए बनेगी दो समितियां

आरडीए अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव की पहल
रायपुर, 7 दिसंबर 2015, डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी आवास योजना आवास योजना बोरियाखुर्द के अंतर्गत बने 1800 फ्लैट्स के नियमित रुप से रखरखाव एवं संधारण के लिए रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव के निर्देश पर प्राधिकरण के अधिकारियों ने गत शनिवार को योजना के निवासियों के साथ एक बैठक की. बैठक में निवासियों व्दारा निर्णय लिया गया कि प्राधिकरण के अधिकारियों की उपस्थिति में तीन माह के भीतर सदस्यता सूची तैयार कर चुनाव कराएंगे. समितियों के चुनाव निष्पक्ष ढ़ंग से हो सके इसके लिए निवासी समिति के चुनाव प्राधिकरण के अधिकारियों की उपस्थिति में होंगे. 
बैठक में प्राधिकरण के कार्यपालन अभियंता श्री अनवर खान, सहायक अभियंता श्री अनिल गुप्ता, श्री अब्राहम नेलसन की उपस्थिति में निवासियों व्दारा प्रस्ताव किया कि योजना के दोनों ग्रुप, ग्रुप  व ग्रुप बी की अलग  अलग समितियां बनाई जाए. योजना में कुछ कार्य प्राधिकरण के माध्यम से तथा शेष कार्य समिति के माध्यम से होंगे. समिति गठन के पूर्व योजना के निवासी प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव से चर्चा कर किए जाने वाले कार्यों के संबंध में अधिकारियों के मार्गदर्शन में निर्णय लेंगे.                                  

शहर विकास की नई योजना बनाने कार्यशाला का आयोजन करेगा आरडीए

     
 रायपुर, 7 दिसंबर 2015, रायपुर शहर के लिए नई विकास योजनाएं बनाने के लिए रायपुर विकास प्राधिकरण आगामी दिनों में एक कार्यशाला का आयोजन करेगा जिसमें संभावित योजनाओं पर डेव्हलपर्स, टॉऊन प्लॉनर्स और ऑर्किटेक्टस अपने - अपने सुझाव देंगे. प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने इस संबंध में गत दिनों योजनाकारों तथा आर्किटेक्टस की प्राधिकरण कार्यालय में एक बैठक आयोजित की थी, जिसमें यह सुझाव दिए गए. श्री श्रीवास्तव ने बैठक में शहर बढ़ती आबादी और व्यवसाय के नए क्षेत्रों को देखते हुए किस प्रकार की नई योजनाएं ली जा सकती है इस पर चर्चा की और आमंत्रित योजनाकारों को शहर विकास की नई संभावनाओं पर प्रस्ताव तैयार करने आग्रह किया. उन्होंने कहा कि प्राधिकरण शीघ्र ही कार्यशाला आयोजित कर अच्छे सुझावों पर आगे नई योजनाएं बनाएगा.




Nov 28, 2015

आरडीए में विवादित प्रकरणों को बातचीत के जरिए सुलझाने की पहल

आरडीए अध्यक्ष ने की विकास कार्यों की समीक्षा  
बोरियाखुर्द में भी बनेंगे ईड्ब्लूएस व एलआईजी फ्लैट्स
रायपुर, 28 नवंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण के विरुध्द चल रहे न्यायालयों के प्रकरणों एवं अन्य मामलों में विवाद की स्थिति को आपसी बातचीत से सुलझाया जाए.यह बात प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने आज एक समीक्षा बैठक में कही. इसके अतिरिक्त बोरियाखुर्द में इन्द्रप्रस्थ रायपुरा में प्रस्तावित ईडब्लूएस एवं एलआईजी भवनों की तरह ही निम्न आय वर्ग के लिए फ्लैट्स का निर्माण किए जाएंगे. 


 आरडीए के अध्यक्ष ने समीक्षा बैठक में अधिकारियो से कहा कि प्राधिकरण के  विरुध्द कई मामले न्यायालयों में लंबित हैं तथा कई मामलों में आम लोगों से विवाद की स्थिति निर्मित होती रहती है. इसलिए संबंधित लोगों को प्राधिकरण के कार्यालय आमंत्रित कर उनसे सीधे बातचीत की पहल की जाए, नियमों की जानकारी देते हुए ऐसे लोगों की समस्याओं का समाधान किया जाए. श्रीवास्तव ने कहा कि प्राधिकरण की ऐसी आवासीय कालोनियों जिसमें फ्लैट्स बने हुए है वहां से नियमित रुप से साफ सफाई की शिकायत आती रहती है. इसलिए वे नगर पालिक निगम के अधिकारियों से चर्चा कर ऐसी ठोस वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए प्रस्ताव तैयार करें ताकि निवासियों की शिकायत दूर हो सके. श्री श्रीवास्तव ने प्राधिकरण की विकास एवं निर्माण योजना के लिए समय सीमा पर कार्य करने की का निर्देश भी दिया. वहीं हिन्द स्पोर्टिंग मैदान में स्टेडियम निर्माण के लिए पहले से की गई प्लॉनिंग एवं एसोसियेशन के पदाधिकारियों से चर्चा कर शीघ्र ही कार्रवाई करते हुए इसके लिए एमओयू तैयार किए जाने के निर्देश दिया. उन्होंने ईएसी कॉलोनी पुर्ननिर्माण योजना हेतु भूमि के आवंटन के संबंध में हो रही देरी के संबंध में निर्देश दिया कि संबंधित विभागों में जा कर प्रकरणों का फालोअप किया जाए और यदि कोई परेशानी हो रही हो तो उससे उन्हें अवगत कराया जाए ताकि वे शासन स्तर पर चर्चा की जा सकें. बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री यू.एस.अग्रवाल, मुख्य अभियंता श्री जे.एस. भाटिया, अधीक्षण अभियंता श्री पी.आर. नारंग, समस्त कार्यपालन अभियंता, सहायक अभियंता और सहायक राजस्व अधिकारी उपस्थित थे. 

Nov 26, 2015

हनुमान मंदिर योजना : दुकानदारों की किरायेदारी और लीज अवधि का होगा नवीनीकरण

रिक्त कक्ष हॉल को किराए पर देने और बकाया वसूली के निर्देश

रायपुर, 26 नवंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण की शास्त्री चौक स्थित हनुमान मंदिर योजना के अतंर्गत व्यवसाय कर रहे दुकानदारों की किरायेदारी तथा लीज अवधि का नवीनीकरण किया जाएगा. रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने कल योजना के निरीक्षण के दौरान प्राधिकरण के अधिकारियों को उक्त निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि जिन किरायेदारों पर राशि बकाया हो उसे तत्काल नोटिस दे कर वसूली की जाए.

आरडीए अध्यक्ष ने पूरे परिसर को और बेहतर बनाने के लिए कार्य योजना तैयार कर नए प्रस्ताव रखने का भी निर्देश दिया. श्री श्रीवास्तव ने हनुमान मंदिर योजना में रिक्त कार्यालय उपयोग के कक्ष व हॉल को किराये पर देने का निर्देश दिया. श्री श्रीवास्तव ने कहा कि बकाया राशि भी समय पर वसूल की जाए ताकि दुकानदारों पर सरचार्ज का अतिरिक्त भार नहीं पड़े. उन्होंने कहा परिसर में लगाए गए होर्डिंग्स के संबंध में जानकारी प्रस्तुत की जाए.

Nov 19, 2015

बकाया राशि जमा नहीं करने वाले 34 आवंटितियों के फ्लैट्स सील

न्यू राजेन्द्रनगर और बोरियाखुर्द में हुई कार्रवाई
रायपुर 19 नवंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण ने बकाया राशि जमा नहीं करने वाले 34 आवंटितियों के फ्लैट्स सील कर दिए. इसमें कुशाभाऊ ठाकरे आवास योजना, न्यू राजेन्द्रनगर के तीन और बोरियाखुर्द स्थित डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी आवास योजना के 31 फ्लैट्स शामिल हैं. प्राधिकरण प्रशासन के अनुसार इन आवंटितियों ने लगातार सूचना क बाद भी काफी समय से राशि जमा नहीं की है. इन पर मूल राशि के साथ हर माह सरचार्ज राशि भी जुड़ रही है. बकाया राशि जमा नहीं करने वालों आवंटितियों पर कार्रवाई नियमित रुप से आगे भी जारी रहेगी.

जिनके फ्लैट्स सील किए गए हैं उनमें कुशाभाऊ ठाकरे आवास योजना, न्यू राजेन्द्रनगर के तीन आवंटितियों श्रीमती सरोज जायसवाल, श्रीमती ज्योति दास व अजय लाहेजा के फ्लैट्स सील किए गए. डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी आवास योजना बोरियाखुर्द के रस्त्रपाल वान्द्रे, राहुल खंडेलवाल, बरसाती साहू,ज्ञानेश श्रीवास्तव, श्रीमती कुसुम मिश्रा, सुरेश कुमार साहू,श्रीमती मुन्नी अजमत, मनोज कुमार, मो. खलील, श्रीमती लक्ष्मी दीपक बकवाना, प्रेम नारायण सिन्हा, मनीष गोहिया, गौतमचंद बोथरा, श्रीमती कांतीदेवी ठाकुर, श्रीमती सुनीता शर्मा, मो. ईशाक, श्रीमती रेखा व्दिवेदी, मंजू देवांगन, श्रीमती ज्योति छाबड़िया, श्रीमती सुशीला नायडू, नीलरतन कर्मकार, अब्बास अली, राजेश कुमार अवस्थी, अब्दुल सईद अख्तर, श्रीमती अंबिका देवी, राजकुमार गोधवानी, सुनील कुमार वैष्णव, जगदीश साहू, अनूप कुमार जाधव, श्रीमती देवीदास गोंविदानी और श्रीमती ममता साहू के फ्लैट्स सील किए गए हैं. 

Nov 18, 2015

कमल विहार के प्लॉटों पर अब मिलेगी 3 प्रतिशत अतिरिक्त छूट

जनवरी से बढ़ेंगी भूखंड की दरें      
इन्द्रप्रस्थ रायपुरा में बनेंगे एलआईजी ईडब्लूएस के 2720 फ्लैट्स
रायपुर, 18 नवंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण निम्न आय वर्ग तथा आर्थिक रुप से कमजोर वर्ग के लिए इन्द्रप्रस्थ रायपुरा में 2720 फ्लैट्स बनाएगा किन्तु फ्लैट्स का निर्माण शुरु करने से पहले प्राधिकरण डिमांड सर्वेक्षण कराया जाएगा. यह फ्लैट्स प्रधानमंत्री आवास योजना के मापदंडों के अनुसार बनाए जाएंगे ताकि आवंटितियों को केन्द्र सरकार से मिलने वाला अनुदान तथा बैंक से सीधे् ऋण की सुविधा का लाभ मिल सके. इसके अतिरिक्त कमल विहार के भूखंड के आवंटितियों को 31 दिसंबर 2015 तक एकमुश्त राशि भुगतान करने पर 3 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट दी जाएगी जो पहले से दी जा रही 12 प्रतिशत की छूट के अतिरिक्त होगी. यह निर्णय आज रायपुर विकास प्राधिकरण की बैठक में संचालक मंडल में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने की.   

प्राधिकरण संचालक मंडल के सदस्य सचिव प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम. डी. कावरे ने बताया कि एलआईजी फ्लैट्स का क्षेत्रफल 605 वर्गफुट तथा ईडब्लूएस फ्लैट्स का क्षेत्रफल 381 वर्गफुट का होगा. मांग सर्वेक्षण में 70 प्रतिशत आवेदन आने की स्थिति में ही फ्लैट्स का निर्माण कार्य शुरु किया जाएगा.
अवार्ड की राशि वापस कर भूखंड लेने वालों को किस्तों में ब्याज की सुविधा
कमल विहार योजना में अनिवार्य भूअर्जन की अवार्ड राशि जमा कर विकसित भूखंड लेने वाले भूमि स्वामियों को 31 दिसंबर तक अंतिम अवसर देते हुए संचालक मंडल ने ब्याज की राशि जमा करने के लिए 12 किस्तों में जमा करने की सुविधा दे दी है. कमल विहार योजना के निजी भूमि स्वामी जिनकी भूमि का अर्जन योजना के लिए किया गया तथा उन्हें अवार्ड राशि दे दी गई थी यदि वे योजना में भूखंड चाहते हैं तो वे अवार्ड राशि के साथ ब्याज की राशि तथा सर्विस चार्ज जमा कर विकसित भूखंड ले सकते हैं. इसमें यदि कोई भूमि स्वामी ब्याज की राशि किस्तों में जमा करना चाहता है तो उसे 12 किस्तों की सुविधा भी दी जाएगी. किन्तु रजिस्ट्री पूरी राशि जमा होने के बाद ही की जाएगी.
जनवरी 2016 से कमल विहार की बढ़ेंगी दरें
प्राधिकरण के संचालक मंडल ने कमल विहार योजना में बड़े भूखंडों को छोटे भूखंडों में परिर्वर्तित करने के कारण विकास कार्य के लिए अतिरिक्त रुप से लगने वाली राशि के लिए जनवरी 2016 से विक्रय किए जाने वाले भूखंडों की दरें बढ़ाने की स्वीकृति दी है. इस निर्णय के अनुसार आवासीय भूखंडों, सेक्टर लेवल व सार्वजनिक एवं अर्ध्द सार्वजनिक उपयोग के भूखंडो तथा स्कीम लेवल व्यावसायिक के भूखंडों में वृध्दि की जाएगी. 
31 दिसंबर 2015 तक राशि जमा करने पर मिलेगी 3% की छूट
संचालक मंडल ने 31 दिसंबर 2015 तक कमल विहार योजना के आवंटितियों व्दारा भूखंड की समस्त राशि जमा करने पर 3 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट देने का निर्णय लिया है. प्राधिकरण पहले ही निर्धारित तिथि के पूर्व राशि जमा करने वाले आवंटितियों को प्रतिदिन (प्रो रेटा) के आधार पर 12 प्रतिशत की छूट दे रहा है.  
आज संचालक मंडल की बैठक में अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव, मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम.डी. कावरे, वित्त विभाग के संयुक्त संचालक श्री सतीश पांडेय, आवास एवं पर्यावरण विभाग के अवर सचिव श्री जी.एल.सांकला, उप वन संरक्षक श्री विनोद मिश्रा, नगर निवेशक श्री एम. एन. ठाकुर तथा नगर तथा ग्राम निवेश के संयुक्त संचालक श्री विनीत नायर और अतिरिक्त सीईओ श्री यू.एस. अग्रवाल उपस्थित थे.  

Nov 17, 2015

छोटे प्लॉट उपलब्ध कराते ही कमल विहार में प्लॉट की मांग बढ़ी

पहले दिन ही 4.23 करोड़ के प्लॉट बिके, प्लॉट चुनने की सुविधा के कारण बढ़ा आकर्षण

रायपुर, 17 नवंबर 2015, जनता की मांग पर छोटे प्लॉट, प्लॉट चुनने की सुविधा और सप्ताह में तीन दिन आवंटन किए जाने के कारण कमल विहार में बिजनेस और आवासीय भूखंडों की मांग तेजी से बढ़ी है. कल पहले ही दिन कमल विहार के बिजनेस 3 और आवासीय उपयोग के 8 भूखंड बिके, जिसकी कीमत लगभग 4 करोड 23 लाख रुपए है. इसमें तीन आवेदकों ने बिजनेस के भूखंड खरीदे. गत दिनों मंत्रालय में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह व्दारा की गई समीक्षा बैठक में कमल विहार में बड़े भूखंडों को छोटा करने का निर्देश दिया गया था. इस बैठक में आवास एवं पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत और रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव भी उपस्थित थे.
इसके बाद प्राधिकरण ने आवासीय के साढ़े 6 सौ से साढ़े 27 सौ वर्गफुट आकार के 122 भूखंड आवंटन के लिए उपलब्ध कराए गए हैं. जबकि आवासीय में बड़े आकार के 2750 से 20,677 वर्गफुट आकार के 89 प्लॉट हैं. स्कीम लेवल के 64 व्यावसायिक भूखंड सेन्ट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में उपलब्ध हुए हैं. सेक्टर लेवल व्यावसायिक में 52 प्लॉट विक्रय के लिए हैं. उल्लेखनीय है कि कमल विहार में पूर्व में उपलब्ध कराए गए स्कीम लेवल के व्यावसायिक भूखंड पहले से ही बिक चुके थे.

प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम. डी. कावरे के अनुसार सेक्टर लेवल सहित शैक्षणिक और स्वास्थ्य प्रयोजन के भूखंड भी विक्रय के लिए उपलब्ध हैं. पहले 2750 वर्गफुट से छोटे आवासीय भूखंडों के लिए चयन का कोई प्रावधान नहीं था किन्तु अब आवेदक अपनी पसंद के तीन भूखंडों के विकल्प का उपयोग कर सकेंगे. यदि किसी भूखंड के लिए एक से अधिक आवेदन आए तो उस स्थिति में लॉटरी होगी अन्यथा आवेदक को भूखंड आवंटित हो जाएगा. श्री कावरे ने बताया कि पहले सप्ताह में शुक्रवार के दिन ही भूखंडों का आवंटन किया जाता था, अब इसे बढ़ा कर तीन दिन सोमवार, बुधवार और शुक्रवार कर दिया गया है. यही नहीं समय पूर्व भुगतान की स्थिति में प्राधिकरण व्दारा प्रो रेटा के आधार पर 12 प्रतिशत की छूट भी उपलब्ध करा रहा है.    

Nov 7, 2015

कमल विहार में अब फिर मिलेंगे छोटे प्लॉट

// छोटे भूखंडों के चयन के लिए तीन विकल्पों की सुविधा मिलेगी //
- एक से अधिक आवेदन पर होगी लाटरी, अब सप्ताह में तीन होगा आवंटन -

रायपुर, 07 नवंबर 2015, कमल विहार योजना में छोटे प्लाटों की भारी मांग के चलते रायपुर विकास प्राधिकरण अब आवासीय भूखंडों के 600 वर्गफुट से बड़े आकार के136 भूखंड, व्यवसायिक उपयोग के लिए 3400 वर्गफुट से अधिक आकार के 24 भूखंड तथा सार्वजनिक एवं अर्ध्द-सार्वजनिक उपयोग के लिए 2300 वर्गफुट से अधिक आकार के लिए 31 भूखंड की बिक्री शुरु करने जा रहा है. प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव के निर्देश पर यह कार्रवाई की जा रही है. यही नहीं आवेदक अपनी प्राथमिकता के अनुसार स्वयं के लिए तीन भूखंडों के चयन का विकल्प दे सकेगा, जिसके आधार पर भूखंड व अन्य संपत्तियों का आवंटन होगा किन्तु एक से अधिक आवेदन पत्र प्राप्त होने पर लॉटरी के माध्यम से आवंटन किया जाएगा.
प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम. डी. कावरे ने बताया कि अब तक कमल विहार में जो भूखंड बेचे गए हैं उसमें छोटे आकार के भूखंडों की काफी ज्यादा मांग रही है. बड़े भूखंड भी बिके है पर पूरे छत्तीसगढ़ ही नहीं वरन देश और विदेशों से भी लोगों ने कमल विहार में छोटे प्लॉटों के प्रति काफी रुझान दिखाया है. श्री कावरे ने बताया कि प्राधिकरण ने यह निर्णय लिया है कि अब 16 नवंबर से हर सप्ताह शुक्रवार के अलावा सोमवार और बुधवार को भी कमल विहार के भूखंडों का आवंटन किया जाएगा ताकि लोग अपनी पसंद के भूखंड प्राप्त कर सकें.
इसके अतिरिक्त आरडीए अध्यक्ष श्री श्रीवास्तव ने कल देवेन्द्रनगर योजना का दौरा कर व्यावसायिक क्षेत्र की 40 हजार वर्गफुट भूमि तथा सिटी सेन्टर में व्यावसायिक संपत्ति विक्रय के लिए अच्छा वर्किंग प्लॉन बनाए जाने का निर्देश दिया ताकि राजधानी में व्यवसाय करने वाले लोगों को एक और बेहतर स्थान मिल सके.

Nov 6, 2015

देवेन्द्रनगर में नई व्यावसायिक संपत्ति विक्रय की तैयारी में आरडीए

सिटी सेन्टर में भी व्यावसायिक स्थान उपलब्ध कराएगा आरडीए
रायपुर, 06 नवंबर 2015, देवेन्द्रनगर योजना के व्यावसायिक क्षेत्र में व्यवसायियों को 40 हजार वर्गफुट भूमि पर एक नई कार्य योजना बना कर संपत्तियां उपलब्ध कराई जाएगी. रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने आज देवेन्द्रनगर योजना के व्यावसायिक क्षेत्र
का दौरा कर अधिकारियों को एक बेहतर प्रस्ताव तैयार करने को कहा. देवेन्द्रनगर आज पूरे छत्तीसगढ़ प्रदेश के सबसे समृध्द क्षेत्र के रुप में जाना जाता है. यहां प्राधिकरण ने कपड़ा व्यवसाय के साथ ही अन्य व्यवसायिक गतिविधियों के लिए भूमि उपलब्ध कराई है जिसे कारण यह लोगों की यह लोगों के लिए एक अच्छे शॉपिंग का केन्द्र के रुप में विकसित हो गया है. छत्तीसगढ़ शासन व्दारा यहां छत्तीसगढ़ हॉट विकसित किया गया है जो इसी व्यावसायिक क्षेत्र में है, जहां देश के कई भागों से हस्तशिल्पी आकर अपना व्यापार करते हैं. आज के भ्रमण के दौरान प्राधिकरण की सीईओ श्री एम.डी. कावरे, मुख्य अभियंता श्री जे.एस. भाटिया, अधीक्षण अभियंता श्री पी.आर. नारंग भी उपस्थित थे.
आरडीए के अध्यक्ष ने सिटी सेन्टर कम मल्टीप्लेक्स का भी अवलोकन किया और वहां प्राधिकरण की 40 हजार वर्गफुट निर्मित क्षेत्र का अवलोकन किया. प्राधिकरण को यहां  निर्मित क्षेत्र को विक्रय करना है. श्री श्रीवास्तव ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि सिटी सेन्टर कम मल्टीप्लेक्स में व्यावसायिक संपत्ति विक्रय के लिए अच्छा वर्किंग प्लॉन बनाए ताकि व्यवसाय करने वाले लोगों को एक बेहतर स्थान पर उचित स्थान मिल सके.  

Oct 20, 2015

🔴 1600 एकड़ में फैले कमल विहार में कोई दिन ऐसा नहीं जाता जब उसके आसमान से होकर नई दिल्ली और मुंबई की ओर कोई हवाई जहाज नहीं जाता हो।
🔴 यदि आप कमल विहार के खसरे की सीमा रेखा पर एक पूरा चक्कर लगाएगें तो आप 25 किलो मीटर तक चल चुके होंगे। आप जानते ही होंगे कि रायपुर से भिलाई की दूरी लगभग 25 किलो मीटर है। पर आज तक किसी ने कमल विहार के खसरे की सीमा रेखा की ऐसी कोई यात्रा नहीं की है।
🔴 कमल विहार में बिछाई गई बिजली के केबल की बात करें तो यहां बिछाई गई केबल की लंबाई लगभग 1900 किलो मीटर से भी ज्यादा है। इस लंबाई का मतलब यह है कि यदि आप इतना फासला तय करेंगे तो निश्चित ही रायपुर से कश्मीर पहुंच जाएंगे।

Sep 28, 2015

कमल विहार में एक हजार से ज्यादा भूस्वामियों ने लिया विकसित भूखंड का कब्जा

जनभागीदारी की योजना अब देश भर में बनी मिसाल
 रायपुर, 29 सितंबर 2015प्रदेश के आवास एवं पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत के निर्देश के बाद से कमल विहार के मूल भूस्वामियों को उनके विकसित भूखंडों का कब्जा लगातार दिया जा रहा है. रायपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम.डी. कावरे ने बताया कि कमल विहार स्थल कार्यालय में नियमित रुप से लगे विशेष कैंप में आज तक कुल 1051 भूमि स्वामियों ने विकसित भूखंडों का कब्जा ले लिया है. विकसित भूखंड देने का यह सिलसिला नियमित रुप से जारी है. रविवार को छोड़ कर अन्य शासकीय अवकाश के दिनों में भी भूमि स्वामी अपने को आवंटित भूखंडों का कब्जा ले रहे है.
प्राधिकरण ने नगर विकास योजना कमल विहार के लिए जिन 90 प्रतिशत भूमि स्वामियों के साथ योजना बनाने की जो साझेदारी की है वह अब एक मिसाल बन गई है. लैंड पूलिंग योजना का यह मॉडल देश भर में एक चर्चा का विषय बन गया है. देश विदेश के कई विशेषज्ञ पहले ही जनभागीदारी की इस योजना के बारे में कई मंचो पर चर्चा कर रहे हैं. इसी सिलसिले में गत दिनों कमल विहार योजना के भूमि प्रबंधन को श्रेष्ठ मानते हुए आर्डर ऑफ मेरिट का अवार्ड प्रदान किया गया.

प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने नई दिल्ली में आर्डर ऑफ मेरिट का अवार्ड प्राप्त करने के बाद विशेषज्ञों से चर्चा करते हुए कमल विहार लैंड पूलिंग प्रणाली के बारे में जानकारी दी और बताया कि केन्द्र सरकार ने भी इस योजना की जानकारी मांगी है. इसके अलावा दिल्ली विकास प्राधिकरण ने भी कमल विहार की तर्ज पर भूमि प्रबंधन की नई पॉलिसी बना रही है.  

Sep 27, 2015

इन्द्रप्रस्थ रायपुरा में तीन पार्क विकसित होंगे

-    पाथवे निर्माण का भूमिपूजन -
रायपुर, 27 सितंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण ने अपने इस वर्ष बजट के दौरान उद्यान विकास के लिए जो प्रस्ताव रखा था उसके परिपेक्ष्य में आज इन्द्रप्रस्थ रायपुरा के तीन उद्यानों में
पॉथवे निर्माण का भूमिपूजन किया गया. योजना में पहले से ही उद्यानों के लिए जगह छोड़ी गई थी जिसमें कुछ दिन पूर्व हरियर छत्तीसगढ़ अभियान के दौरान विभिन्न प्रजाति के पौधों का रोपण भी किया गया था. प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम.डी. कावरे, मुख्य अभियंता श्री जे.एस. भाटिया और अधीक्षण अभियंता श्री पी.आर. नारंग और स्थानीय रहवासियों की उपस्थिति में भूमिपूजन कर पॉथवे निर्माण कार्य की शुरुआत की. इसके अन्तर्गत तीन उद्यानों में लोगों की सैर करने के लिए 2 मीटर चौड़े पॉथवे का निर्माण किया जाएगा. उल्लेखनीय है कि रायपुर विकास प्राधिकरण के वर्ष 2015 -16 के बजट में नए उद्यान विकसित करने के लिए 25 लाख रुपए की राशि का प्रावधान किया था.  

इस अवसर पर इन्द्रप्रस्थ रायपुरा के रहवासियों ने पूरी योजना में साफ – सफाई, मवेशियों के सड़क पर घूमने तथा असामाजिक तत्वों की गतिविधियों पर रोक लगाने का आग्रह किया. इस पर सीईओ श्री कावरे ने आश्वस्त किया कि वे इस संबंध में नगर पालिक निगम रायपुर तथा पुलिस विभाग को क्षेत्र की सुरक्षा बढ़ाने के लिए पत्र लिख कर कार्रवाई करने का आग्रह करेंगे. 



Sep 23, 2015

कमल विहार को दूसरी बार मिला राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार मिला

दिल्ली में मिला 'ऑर्डर ऑफ मेरिट अवार्ड'
रायपुर, 23 सितंबर  2015, रायपुर विकास प्राधिकरण की नगर विकास योजना कमल विहार को नई दिल्ली में राष्ट्रीय स्तर का " आर्डर ऑफ मेरिट अवार्ड " प्रदान किया गया है. प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने कल ऩई दिल्ली के इंडिया हैबीटॉट सेन्टर में पूर्व शहरी विकास सचिव श्री एम. रामचन्द्रन से यह अवार्ड प्राप्त किया. इस अवसर प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एम. डी. कावरे, मुख्य अभियंता श्री जे. एस. भाटिया, सलाहकार श्री आनंद वोलेटी भी उपस्थित थे.


तेजी से विकसित हो रही कमल विहार योजना में जनता की सहभागिता, भूखंड के आवंटन के लिए तैयार किए गए पारदर्शी लॉटरी मैनेजमैंट सिस्टम, जलप्रदाय के लिए कम्प्यूटर आधारित प्रणाली से 24 घंटे पानी वितरण, कस्टमर रिलेशन मैनेजमैंट, गंदे पानी को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में उपचारित कर उससे उद्यानों की सिंचाई और सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के पंपों को सौर्य उर्जा के माध्यम से संचालित करने की अवधारणा के आधार पर राष्ट्रीय स्तर पर " ऑर्डर ऑफ मेरिट का अवार्ड " प्रदान किया गया है.
प्राधिकरण के सीईओ श्री एम. डी. कावरे ने जानकारी दी कि नई दिल्ली की कोचर ग्रुप की कंसलटेंसी सर्विस लिमिटेड व्दारा आयोजित 41 वें सम्मिट ट्रांसफार्मेटिव्ह गव्हर्नेंस में पूरे देश भर से शहरी विकास की संस्थाओं से गवर्नेंस विषय विषय पर प्रविष्ठियां आमंत्रित की थी. जिसमें विभिन्न संस्थाओं से लगभग 1500 प्रविष्ठियां प्राप्त हुई थी. जिसमें से 350 संस्थाओं की पहले दौर में चुना गया. दूसरे दौर में 40 संस्थाओं का चयन कर विशेषज्ञों के समक्ष उनके उत्कृष्ट कार्यों की प्रस्तुति के लिए नई दिल्ली आमंत्रित किया गया था.
रायपुर विकास प्राधिकरण की कमल विहार नगर विकास योजना के लिए यह दूसरा अवसर है जब उसे राष्ट्रीय स्तर का यह दूसरा अवार्ड एक ही योजना के लिए मिला है. इसके पहले कमल विहार को नए और उन्नत श्रेणी की अवधारणा के लिए 22 फरवरी 2012 में नई दिल्ली में हडको डिजाईन अवार्ड प्राप्त हुआ था.
आर्डर ऑप मेरिट अवार्ड प्रदान करने वाली दिल्ली की संस्ता कंसलटेंसी सर्विस लिमिटेड 1997 से रणनीती एवं प्रबंधन के क्षेत्र में सार्वजनिक सथा शासकीय उपक्रमों, बैंकिग व वित्तीय सेवा व बीमा सेक्टर, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन , उर्जा, शिक्षा तथा सूचना एवं संचाल तकनीक के सेक्टर में काम कर रही है.

Sep 18, 2015

कमल विहार में बनेंगे पांच बस स्टॉप

अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने किया भूमि पूजन
रायपुर, 18 सितंबर 2015, कमल विहार से हो कर गुजरने वाली रिंग रोड में पांच बस शेल्टर बनाने के
लिए आज रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने भूमि पूजन कर इसके निर्माण की शुरुआत की. सर्वसुविधायुक्त इस बस स्टॉप में विकलांगों के लिए बस में चढ़ने के लिए अलग से रैम्प बनाया जाएगा. 720 वर्गफुट में बनने वाले बस स्टॉप में तीन दुकानें, पुरुष व महिला शौचालय और बस यात्रियों के प्रतीक्षा करने और बैठने के लिए कुर्सियों की व्यवस्था होगी. पांच बस स्टॉप के निर्माण की कुल लागत 61.92 लाख रुपए आंकी गई है. इसके नि्र्माण क लिए तीन माह का समय दिया गया है. अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने भूमि पूजन के अवसर पर उपस्थित इंजिनियरों से कहा कि वे कार्य की बेहतरीन गुणवत्ता बनाएं रखें, निर्माण कार्य की सुरक्षात्मक उपायों पर भी ध्यान दें तथा समय प्रबंधन करते हुए निर्धारित समय सीमा में निर्माण करें.

बस स्टॉप के भूमि पूजन के अवसर पर प्राधिकरण के सीईओ श्री एम.डी. कावरे, अतिरिक्त सीईओ श्री यू.एस. अग्रवाल, मुख्य अभियंता श्री जे. एस.भाटिया, कार्यपालन अभियंता श्री पी. एम. कोल्हे, सहायक अभियंती श्री अनिल गुप्ता, श्री के.पी. देवांगन, श्री एम.एस. पांडे भी उपस्थित थे.
कमल विहार में 1000 ने लिया कब्जा,13 करोड़ के प्लॉट भी बिके
रायपुर, 18 सितंबर 2015, कमल विहार योजना में ऐसे भूमि स्वामी जिन्होंने योजना में अपनी भूमि दे कर सहभागिता निभाई है उनमें से एक हजार से ज्यादा भूस्वामियों ने अपने विकसित भूखंड का लिया कब्जा ले लिया है. आज तक 1010 भूस्वामियों ने स्थल कार्यालय में उपस्थित हो कर अपने विकसित भूखंड का कब्जा ले लिया है. वहीं हर शुक्रवार को होने वाली लॉटरी तथा निविदा आवंटन में इस शुक्रवार को 12 करोड़ 93 लाख रुपए के आवासीय,शैक्षणिक तथा मल्टी स्टोरीड फ्लैट्स बनाने के लिए एक बड़े भूखंडों का समूह भी बिका. इसी प्रकार इन्द्रपस्थ रायपुरा योजना के फेज  2 में भी 72 लाख रुपए के प्लॉटों की बिक्री हुई.   


Sep 11, 2015

छत्तीसगढ़ की सबसे हॉट प्रापर्टी कमल विहार की सेल फिर बढ़ी

एक ही दिन में 15.75 करोड़ के प्लॉट बिके
प्रापर्टी लोन मेला में प्लॉटों की जानकारी लेने वालों की अच्छी प्रतिक्रिया
रायपुर 11 सितंबर 2015, छत्तीसगढ़ की सबसे हॉट प्रापर्टी कमल विहार अब लोगों के आकर्षण का केन्द्र बनती जा रही है. आज रायपुर विकास प्राधिकरण की कमल विहार योजना में 15.75 करोड़ रुपए के 4 बड़े व्यावसायिक सहित अन्य प्लॉटों की ब्रिकी हुई. जो अब तक हर सप्ताह होने वाली बिक्री की श्रृंखला की दूसरी सबसे बड़ी बिक्री थी. उधर प्राधिकरण कार्यालय परिसर में आयोजित प्रापर्टी लोन मेला में प्ल़ॉट व फ्लैट खरीदने वालों की भी अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. यह प्रापर्टी मेला कल अंतिम दिन है. 
प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने कमल विहार के प्लॉटों की लगातार हो रही ब्रिक्री के संबंध में कहा कि इससे यह पता चलता है कि सभी वर्ग के लोगों ने कमल विहार योजना को खूब पसंद किया है और वे इस योजना में अपना घर और व्यवसाय भी करना चाहते हैं. श्री श्रीवास्तव ने कहा कि अब तो प्लॉट लेने वालों ने वहां अपना मकान बनाना भी शुरु कर दिया है. हाल ही में दो लोगों ने अपने भवन निर्माण का कार्य शुरु किया है इसके पहले वहां बनने वाला पहला मकान भी अब दो मंजिल तक बन चुका है. साथ ही कई लोग अब अपने मकान का नक्शा नगर पालिक निगम रायपुर से पास करवा रहें है ताकि वे शीघ्र ही निर्माण प्रारंभ कर सकें.
प्राधिकरण के सीईओ श्री एम.डी. कावरे ने बताया कि हर सप्ताह होने वाले विक्रय में इसके पहले 10 जुलाई 2015 को 25 करोड़ रुपए की अधिकतम बिक्री का रिकार्ड था. इसके बाद यह दूसरी सबसे बड़ी बिक्री है. जिसमें 15.75 करोड़ रुपए के प्लॉट का रिकार्ड विक्रय हुआ है. श्री कावरे ने बताया कि प्राधिकरण के पास कमल विहार में अब बड़े बड़े आकार के आवासीय भूखंडों सहित व्यावसायिक, सार्वजनिक अर्ध्द सार्वजनिक, शैक्षणिक व स्वास्थ्य प्रयोजन के भूखंड ही विक्रय के लिए उपलब्ध हैं. उन्होंने बताया कि इन्द्रप्रस्थ योजना जिसमें कमल विहार योजना जैसी ही अधोसंरचना विकसित की जा रही है वहां भी आवासीय, व्यावसायिक, मिश्रित व स्वास्थ्य प्रयोजन के भूखंड और 2बीएचके व 3बीएचके के फ्लैट्स विक्रय के लिए उपलब्ध हैं. इन्द्रप्रस्थ में हर सप्ताह गुरुवार को प्लॉटों का आवंटन किया जा रहा है.  

Sep 9, 2015

PROPERTY LOAN  MELA 

Organised by Raipura Development Authority at RDA Office, New Rajendra Nagar,RAIPUR (Chhattisgarh). Mela will be from 10, 11 & 12 September 2015 at Office Time.
------------------------------------------You All Are Invited-----------------------------------------------


Sep 3, 2015

कमल विहार में पूर्व में की गई अवैध प्लॉटिंग में सड़क नाली उद्यान की भूमि नहीं, तो भूखंड देने पर होगा विचार


रायपुर 3 सितंबर 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने कहा है कि कमल विहार योजना में पूर्व में की गई अवैध प्लॉटिंग में जिन व्यक्तियों की भूमि सड़क, नाली या उद्यान में नहीं पाई जाती है तो उन्हें जांच के उपरांत विकसित भूखंड देने पर सकारात्मक रुप से विचार किया जाएगा. उन्होंने कहा कि जिन लोगों की भूमि सड़क, नाली या उद्यान की पाई जाएगी उन पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.
श्री श्रीवास्तव ने कहा कि अवैध प्लॉटिंग के साथ ही सड़क की भूमि पर विकसित भूखंड देने का दावा करने वाले लोगों की पहचान करने के लिए प्राधिकरण व्दारा सूची की पुनः जांच करवाई जा रही है. जांच में जिनकी भूमि सड़क, नाली व उद्यान में नहीं पाई जाएगी उनकों विकसित भूखंड देने पर विचार किया जाएगा.
दरअसल अवैध प्लॉटिंग वह है जो बिना कालोनाईजर लायसेंस के बनाई गई है तथा उसका मानचित्र कार्यालय नगर तथा ग्राम निवेश, रायपुर से अनुमोदित नहीं कराया गया है. हर प्लॉट के समक्ष सड़क होती है जो सार्वजनिक होती है उस पर कोई व्यक्ति न तो निर्माण कर सकता है और ना ही उस पर कोई घेरेबंदी कर सकता है. किन्तु कमल विहार में ऐसे ही अवैध प्लॉटिंग कर नागरिकों को अवैध रुप से प्लॉट बेचे गए हैं जिसमें ना तो नक्शा ही पास हो सकता था और ना ही इस पर बैंक से ऋण लिया जा सकता था.

श्री श्रीवास्तव ने आगे कहा कि अनिवार्य भूमि अधिग्रहण के बाद भी भूमिस्वामियों को विकसित भूखंड देना रायपुर विकास प्राधिकरण का जनहित में एक बड़ा निर्णय रहा है. प्राधिकरण संचालक मंडल के इस सद्भावना और परोपकारी निर्णय से सैकड़ों भूमिस्वामियों ने राहत की सांस ली है. उन्होंने कहा कि ऐसे लोग जो प्राधिकरण व्दारा निर्धारित समय में अपनी भूमि के बदले विकसित भूखंड लेने की सहमति नहीं दे पाए थे और उनकी भूमि का अनिवार्य भूमि अर्जन तहत उन्हें मुआवजा (अवार्ड) पारित किया जा चुका है, यदि ऐसे भूमि स्वामी कमल विहार में विकसित भूखंड लेना चाहते हैं तो उनके मामलों में भूखंड की उपलब्धता के आधार पर भूखंड देने पर प्राधिकरण व्दारा सदभावनापूर्वक विचार किया जा रहा है. 

Sep 1, 2015

हिन्द स्पोर्टिंग मैदान को स्टेडियम बनाने आरडीए अध्यक्ष का स्थल निरीक्षण

रायपुर 2 सितंबर 2015, हिन्द स्पोर्टिंग मैदान लाखेनगर में स्टेडियम निर्माण के लिए रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने आज एसोसियेशन के पदाधिकारियों के साथ लाखेनगर मैदान का निरीक्षण किया. एसोसियेशन व्दारा गत दिनों प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को स्टेडियम निर्माण के लिए एक ज्ञापन सौंपा था. इस पर मुख्यमंत्री ने आरडीए अध्यक्ष को स्टेडियम निर्माण के लिए विचार करने का निर्देश पर प्राधिकरण के अध्यक्ष ने सीईओ श्री एम.डी.कावरे, मुख्य अभियंता श्री जे.एस. भाटिया के साथ मैदान का अवलोकन किया.
 हिन्द स्पोर्टिंग एसोसियेशन के उपाध्यक्ष श्री आशीष दीवान ने आरडीए अध्यक्ष को बताया कि कि स्टेडियम निर्माण के लिए एसोसियेशन को राज्य शासन से भूमि प्राप्त हो चुकी है. एसोसियेशन व्दारा पूरा प्रोजेक्ट, ड्रॉईंग व डिजाईन सहित तैयार कर लिया है. स्टेडियम निर्माण के प्रस्ताव को पूर्व में रायपुर विकास प्राधिकरण ने आवास एवं पर्यावरण विभाग को भेजा है जो आगे खेल विभाग को स्वीकृति के लिए भेजा गया है.
श्री दीवान ने आरडीए के अध्यक्ष को बताया कि स्टेडियम का निर्माण नहीं हो पाने की कारण उक्त मैदान का लगातार कई वर्षों से दुरुपयोग हो रहा है. स्थानीय लोगों व्दारा शौचालय एवं भवन निर्माण की सामग्री रखी जा रही है. ऐसी स्थिति में खिलाडी मैदान का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं. अतएव रायपुर विकास प्राधिकरण व राज्य़ शासन एक सर्वसुविधायुक्त स्टेडियम निर्माण की पहल करे. इस अवसर पर प्राधिकरण अधिकारियों सहित संघ के कार्यालय सचिव श्री नीलोत्पल शुक्ला सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

Aug 28, 2015

ट्रांसपोर्ट नगर को बेहतर बनाने बनाएं समितियां – श्री संजय श्रीवास्तव

ट्रांसपोर्टनगर को राजधानी के अनुरुप व्यवस्थित रखने आरडीए अध्यक्ष का दौरा
       रायपुर 28 अगस्त 2015, छत्तीगढ़ के सबसे बड़े ट्रांसपोर्टनगर रावांभाठा में साफ सफाई, पानी की नियमित आपूर्ति, सड़क नाली की मरम्मत, व्यवस्थित पार्किंग और सुरक्षा को बेहतर बनाए रखने के लिए वहां के व्यवसायी समितियों का गठन करेंगे. यह सुझाव प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने आज स्थल निरीक्षण के दौरान व्यवसायियों से चर्चा के दिया. उन्होंने कहा कि ट्रांसपोर्ट नगर को राजधानी के अनुरुप बनाए रखना सभी की जिम्मेदारी है किन्तु व्यवसायियों को इस बात पर ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है.
 ट्रासंपोर्ट व्यवसायियों की समिति रायपुर विकास प्राधिकरण, बीरगांव नगर पालिका और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के अधिकारियों के संपर्क में रह कर समस्याओं का निराकरण करेगी. प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने आज सीईओ श्री एम. डी. कावरे, मुख्य अभियंता जे.एस. भाटिया, बीरगांव नगर पालिक निगम के आयुक्त श्री एच. के. हल्दकार, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के कार्यपालन अभियंता श्री संजीव ब्रिजपुरिया, वार्ड के पार्षद श्री शंकर साहू के साथ डॉ. खूबचंद बघेल ट्रांसपोर्टनगर रावांभाठा के ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों के साथ स्थल का निरीक्षण किया.

 ट्रांसपोर्ट व्यवसायियों में छत्तीसगढ़ ट्रक मालिक संघ के पदाधिकारी श्री शेषनाथ तिवारी और उत्तम कुमार दुबे ने आरडीए अध्यक्ष को बताया कि कई सड़कों पर गढ़डे हो गए हैं. नालियां और पूरा क्षेत्र साफ सफाई के अभाव में काफी गंदा हो गया है. पानी की आपूर्ति भी पर्याप्त नहीं हो रही है. क्षेत्र में खमतराई थाने की चौकी होने के बावजूद भी चोरियां हो रही हैं. ट्रकों की पार्किंग भी पार्किंग स्थल पर न हो कर सड़कों पर हो रही है. सड़कों पर स्पीड ब्रेकर की आवश्यकता है. आरडीए अध्यक्ष श्री श्रीवास्तव ने कहा चूंकि ट्रांसपोर्टनगर काफी बड़ा है इसलिए व्यवसायियों पूरे क्षेत्र को अलग - अलग सेक्टर मानकर तीन चार समितियां बना ले और फिर सभी की एक समन्वित समिति बनाएं. ताकि उनकी हर स्तर की समस्याओं पर ध्यान दिया जा सके. चर्चा के दौरान श्री श्रीवास्तव ने अधिकारियों को यह निर्देश दिया कि वे 31 अगस्त दोपहर 3 बजे व्यवसायियों के साथ मिल कर स्थल का मुआयना करें. और ट्रांसपोर्टनगर को बेहतर बनाने के लिए किए जाने वाले कार्य की रणनीति बना कर प्रस्तुत करें. 



Aug 27, 2015

वाजपेयी के सपनों को हकीकत में बदलेगा स्मार्ट सिटीज मिशन – संजय श्रीवास्तव

भविष्य के छत्तीसगढ़ की 3 स्मार्ट सिटीज रायपुर, बिलासपुर और नया रायपुर
रायपुर 27 अगस्त 2015, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव ने कहा है कि रायपुर शहर को देश के 98 शहरों के स्मार्ट सिटीज मिशन में शामिल कर केन्द्र सरकार ने छत्तीसगढ़ के निर्माता अटल विहारी वाजपेयी के सपनों को हकीकत में बदलने का एक ठोस कदम उठाया हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी विकास की समझ रखने वाले ऐसे क्रांतिकारी है जिसका देश को दशकों से इंतजार था. उनकी विकास  दूरदृष्टि अपने आप में अदभुत है.
आरडीए के अध्यक्ष ने कहा कि केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री एम. वेंकैया नायडू भी बधाई के पात्र है उन्होंने इस मिशन पर काफी तेजी के साथ काम किया. रायपुर को स्मार्ट सिटीज मिशन में शामिल करने से यहां पर्याप्त पानी की आपूर्ति, निश्चित विद्युत आपूर्ति, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, स्वच्छता, कुशल शहरी गतिशीलता और सार्वजनिक, परिवहन, किफायती आवास, सुदृढ़ आई टी कनेक्टिविटी और डिजटलीकरण, सुशासन, विशेष रूप से ई-गवर्नेंस और नागरिक भागीदारी, टिकाऊ पर्यावरण, नागरिकों की सुरक्षा और संरक्षा, विशेष रूप से महिलाओं, बच्चों एवं बुजुर्गों की सुरक्षा, और स्वास्थ्य और शिक्षा की दिशा में काम होगा. उन्होंने कहा राज्यों के पास सीमित संसाधनों और विशेषज्ञता की कमी होने के कारण शहरों का बेहतर और समन्वित विकास नहीं हो पाया है. अब स्मार्ट सिटीज मिशन के माध्यम से केन्द्र सरकार व्दारा विशेषज्ञता और हर शहर को स्मार्ट बनाने के लिए भी राशि उपलब्ध होगी.  
श्री श्रीवास्तव ने कहा कि 14वीं सदी में बना रायपुर पुरानी बसाहट के कारण यहां आधुनिक संरचना का अभाव है जो स्मार्ट सिटीज मिशन से आधुनिक स्वरुप में बदलेगा. श्री संजय श्रीवास्तव ने आगे कहा कि आने वाले समय में छत्तीसगढ में अब तीन स्मार्ट सिटीज होंगी. रायपुर बिलासपुर और नया रायपुर. उन्होंने कहा कि आज नया रायपुर तो डॉ. रमन सिंह की विकासात्मक सोच के कारण देश विदेश में भी जाना जा रहा है. कहीं न कहीं नया रायपुर का विकास भी स्मार्ट सिटीज मिशन के लिए प्रेरक रहा है. श्री श्रीवास्तव ने कहा कि स्मार्ट सिटीज मिशन का उद्देश्य ऐसे शहरों को बढ़ावा देने का है जो मूल बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराएं और अपने नागरिकों को एक सभ्य गुणवत्तापूर्ण जीवन प्रदान करे. यह एक स्वच्छ और टिकाऊ पर्यावरण एवं 'स्मार्ट' समाधानों के प्रयोग का मौका भी देगा. सबसे बड़ी बात यह है कि स्मार्ट सिटीज मिशन शहरों को उनकी सबसे अहम जरूरतों एवं जीवन में सुधार करने के लिए सबसे बड़े अवसरों को उपलब्ध कराएगा. जिससे सुनहरे बदलाव की कल्पना साकार होगी.